The news is by your side.

ब्रिटेन में घर मेरे नाम पर नहीं, कोई इन्‍हें छू भी नहीं सकता: विजय माल्‍या

0
विजय माल्या (फाइल फोटो)

बैंकों का कर्ज लेकर देश छोड़ने वाले कारोबारी विजय माल्‍या ने कहा है कि वह ब्रिटिश कोर्ट के आदेश पर पूरी मदद करेंगे. हालांकि माल्या ने कहा कि बैंकों को कुछ मिलेगा नहीं क्‍योंकि उनके परिवार के भव्‍य घर उनके नाम पर नहीं है. ब्रिटिश फॉर्मूला वन ग्रांड प्रिक्‍स में समाचार एजेंसी रॉयटर्स से बातचीत में माल्‍या ने कहा कि वह अपनी ब्रिटिश संपत्ति सौंप देंगे. लेकिन एक लग्‍जरी घर उनके बच्‍चों और लंदन में एक घर उनकी मां के नाम है इसके चलते कोई इन्‍हें छू भी नहीं सकता है.

माल्या ने कहा, ‘मैंने ब्रिटिश कोर्ट को मेरी यहां की संपत्ति से जुड़ा हुआ एफिडेविट दिया है. यह संपत्ति जब्‍त करने के आदेश के अनुसार है, इसे वे बैंकों को दे सकते हैं. कुछ कारें, थोड़े से गहने हैं और मैंने कहा ठीक है. आपको इन्‍हें जब्‍त करने के लिए मेरे घर आने की जरूरत नहीं है. मैं खुद उन्‍हें यह सौंप दूंगा. मुझे समय और जगह बता दो.’

बता दें कि भारत विजय माल्‍या को प्रत्‍यर्पित करने की कोशिशों में जुटा हुआ है. इस मामले में सितम्‍बर तक फैसला आ सकता है. 31 जुलाई बयान दर्ज करने की आखिरी तारीख है. माल्‍या पर बैंकों का 9000 करोड़ रुपये का लोन बकाया है.

माल्‍या ने कहा, ‘मेरे बेघर होने का कोई सवाल नहीं है क्‍योंकि आखिरकार उन्‍हें वही मिलेगा जो मेरे नाम पर है. वे इससे एक कदम आगे नहीं जा सकते.’

Loading...