The news is by your side.

नीरव मोदी के बंगले में मिला कीमती सामान, बंगला ध्वस्त करने की कार्रवाई रुकी

0

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई
Updated Wed, 30 Jan 2019 12:30 AM IST

Related Posts

ख़बर सुनें

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले के आरोपी नीरव मोदी के आलीशान बंगले को गिराए जाने का काम आरंभ करने के दो दिन बाद 27 जनवरी को रोक दिया गया। महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में स्थित मोदी के बंगले को गिराने का काम इसलिए रोका गया क्योंकि बंगले के भीतर कीमती सामान मिला है।

प्रशासन घर के भीतर से कीमती सामान को सही से निकालना चाहता है ताकि संपत्ति से अधिक से अधिक रकम की भरपाई की जा सके। इसलिए बंगला ध्वस्त करने की कार्रवाई रोक दी गई है। एक अधिकारी ने बताया कि नीरव मोदी का बंगला ध्वस्त करने के काम में जुटी टीम को बंगले में दो कीमती कारें भी मिली हैं। इसके अलावा बंगले के भीतर गद्दे, ग्लास फ्रेम, फर्नीचर आदि सामान भी मिला। 

जिलाधिकारी सूर्यवंशी ने कहा कि बंगला गिराने की कार्रवाई अस्थायी तौर पर रोकी गई थी क्योंकि जिला प्रशासन और ईडी बंगले से मूल्यवान सामानों को निकालकर नुकसान की अधिकतम भरपाई करना चाहती है। जिला प्रशासन की ओर से कहा गया है कि सिविल इंजीनियरिंग विभाग के इंजीनियरों से आगे की कार्रवाई के संबंध में रिपोर्ट मांगी गई थी जो मिल चुकी है। उसके बाद फिर बंगला गिराने का काम फिर शुरू किया जाएगा। 

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले के आरोपी नीरव मोदी के आलीशान बंगले को गिराए जाने का काम आरंभ करने के दो दिन बाद 27 जनवरी को रोक दिया गया। महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में स्थित मोदी के बंगले को गिराने का काम इसलिए रोका गया क्योंकि बंगले के भीतर कीमती सामान मिला है।

प्रशासन घर के भीतर से कीमती सामान को सही से निकालना चाहता है ताकि संपत्ति से अधिक से अधिक रकम की भरपाई की जा सके। इसलिए बंगला ध्वस्त करने की कार्रवाई रोक दी गई है। एक अधिकारी ने बताया कि नीरव मोदी का बंगला ध्वस्त करने के काम में जुटी टीम को बंगले में दो कीमती कारें भी मिली हैं। इसके अलावा बंगले के भीतर गद्दे, ग्लास फ्रेम, फर्नीचर आदि सामान भी मिला। 

जिलाधिकारी सूर्यवंशी ने कहा कि बंगला गिराने की कार्रवाई अस्थायी तौर पर रोकी गई थी क्योंकि जिला प्रशासन और ईडी बंगले से मूल्यवान सामानों को निकालकर नुकसान की अधिकतम भरपाई करना चाहती है। जिला प्रशासन की ओर से कहा गया है कि सिविल इंजीनियरिंग विभाग के इंजीनियरों से आगे की कार्रवाई के संबंध में रिपोर्ट मांगी गई थी जो मिल चुकी है। उसके बाद फिर बंगला गिराने का काम फिर शुरू किया जाएगा।