The news is by your side.
Loading...

बजट सत्र पर बोले पीएम मोदी- 'सबका साथ, सबका विकास’ संसद में दिखनी चाहिए

0

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Thu, 31 Jan 2019 12:16 PM IST

Related Posts

ख़बर सुनें

आज से संसद का बजट सत्र शपरू हो गया है। सत्र के शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को सभी सांसदों का आह्वान किया कि वे संसद के बजट सत्र का उपयोग सकारात्मक चर्चा के लिए करें। उन्होंने कहा कि जो सदन में चर्चा में भाग नहीं लेते, उनके प्रति समाज में नाराजगी पनपती है। मोदी ने सत्र प्रारंभ होने से पहले संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि देश के लोगों में जागरूकता है तथा सभी नागरिक सदन की कार्यवाही को गंभीरता से देखते हैं।

उन्होंने कहा, ‘छोटी चीजें भी आम आदमी तक पहुंचती हैं। जिन लोगों की चर्चा में रुचि नहीं है, समाज में उनके खिलाफ सामान्य तौर पर एक नाराजगी है।’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मुझे आशा है कि सांसद इन भावनाओं को दिमाग में रखेंगे और सत्र का उपयोग करेंगे, वे चर्चाओं में हिस्सा लेंगे जिससे संसद को लाभ मिलेगा, सरकार और लोगों को लाभ मिलेगा तथा अवसर का उपयोग हो सकेगा।’ 

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार का मंत्र है, ‘सबका साथ, सबका विकास।’ यही भावना संसद में दिखनी चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हम सभी मुद्दों पर चर्चा करने के लिए उत्सुक (तैयार) हैं।’
 

आज से संसद का बजट सत्र शपरू हो गया है। सत्र के शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को सभी सांसदों का आह्वान किया कि वे संसद के बजट सत्र का उपयोग सकारात्मक चर्चा के लिए करें। उन्होंने कहा कि जो सदन में चर्चा में भाग नहीं लेते, उनके प्रति समाज में नाराजगी पनपती है। मोदी ने सत्र प्रारंभ होने से पहले संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि देश के लोगों में जागरूकता है तथा सभी नागरिक सदन की कार्यवाही को गंभीरता से देखते हैं।

उन्होंने कहा, ‘छोटी चीजें भी आम आदमी तक पहुंचती हैं। जिन लोगों की चर्चा में रुचि नहीं है, समाज में उनके खिलाफ सामान्य तौर पर एक नाराजगी है।’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मुझे आशा है कि सांसद इन भावनाओं को दिमाग में रखेंगे और सत्र का उपयोग करेंगे, वे चर्चाओं में हिस्सा लेंगे जिससे संसद को लाभ मिलेगा, सरकार और लोगों को लाभ मिलेगा तथा अवसर का उपयोग हो सकेगा।’ 

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार का मंत्र है, ‘सबका साथ, सबका विकास।’ यही भावना संसद में दिखनी चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हम सभी मुद्दों पर चर्चा करने के लिए उत्सुक (तैयार) हैं।’
 

Loading...
Comments
Loading...