The news is by your side.
Loading...

फेसबुक पैसे देकर कर रहा है लोगों की जासूसी, इस ऐप को करवा रहा डाउनलोड

0

ख़बर सुनें

पिछले साल ही फेसबुक हर महीने किसी ना किसी विवाद को लेकर चर्चा में रहा है। आए दिन रिपोर्ट सामने आती है कि फेसबुक के ग्राहकों के डाटा लीक हो गए हैं। कई बार यह भी दावा किया जाता है कि फेसबुक ने कई कंपनियों से डाटा बेचने के लिए साझेदारी की है, वहीं अब एक रिपोर्ट ऐसी आई है जिसे पढ़ने के बाद आपको फेसबुक से नफरत हो सकती है।

अंग्रेजी टेक्नोलॉजी वेबसाइट टेकक्रंच की एक रिपोर्ट के मुताबिक फेसबुक कुछ लोगों को पैसे देकर उनके फोन में एक सॉफ्टवेयर इंस्टॉल करवा रही है और गौर करने वाली बात यह है कि फेसबुक लोगों के फोन में जिस सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल करवा रही है वह यूजर्स की जासूसी करने वाला सॉफ्टवेयर है।

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि फेसबुक यह काम साल 2016 से ही कर रही है। रिपोर्ट की मानें तो कंपनी इसके लिए 13 से 35 साल के युवाओं का इस्तेमाल कर रही है और उनके फोन में फेसबुक रिसर्च नाम का वीपीएन (वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क) डाउनलोड करवा रही है। 

इस ऐप को डाउनलोड करने के बदले यूजर हर महीने 20 डॉलर यानि करीब 1,400 रुपये दिए जा रहे हैं। इसके अलावा लोगों को रेफरल कमीशन भी मिल रहा है। बता दें कि यदि आप इस ऐप को डाउनलोड कर लेते हैं तो फेसबुक आपकी हर एक गतिविधि पर नजर रख सकता है।

पिछले साल ही फेसबुक हर महीने किसी ना किसी विवाद को लेकर चर्चा में रहा है। आए दिन रिपोर्ट सामने आती है कि फेसबुक के ग्राहकों के डाटा लीक हो गए हैं। कई बार यह भी दावा किया जाता है कि फेसबुक ने कई कंपनियों से डाटा बेचने के लिए साझेदारी की है, वहीं अब एक रिपोर्ट ऐसी आई है जिसे पढ़ने के बाद आपको फेसबुक से नफरत हो सकती है।

अंग्रेजी टेक्नोलॉजी वेबसाइट टेकक्रंच की एक रिपोर्ट के मुताबिक फेसबुक कुछ लोगों को पैसे देकर उनके फोन में एक सॉफ्टवेयर इंस्टॉल करवा रही है और गौर करने वाली बात यह है कि फेसबुक लोगों के फोन में जिस सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल करवा रही है वह यूजर्स की जासूसी करने वाला सॉफ्टवेयर है।

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि फेसबुक यह काम साल 2016 से ही कर रही है। रिपोर्ट की मानें तो कंपनी इसके लिए 13 से 35 साल के युवाओं का इस्तेमाल कर रही है और उनके फोन में फेसबुक रिसर्च नाम का वीपीएन (वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क) डाउनलोड करवा रही है। 

इस ऐप को डाउनलोड करने के बदले यूजर हर महीने 20 डॉलर यानि करीब 1,400 रुपये दिए जा रहे हैं। इसके अलावा लोगों को रेफरल कमीशन भी मिल रहा है। बता दें कि यदि आप इस ऐप को डाउनलोड कर लेते हैं तो फेसबुक आपकी हर एक गतिविधि पर नजर रख सकता है।

Loading...
Comments
Loading...