The news is by your side.
Loading...

मोतियाबिंद का वैज्ञानिकों ने निकाला तोड़, अब सर्जरी नहीं एक आई ड्रॉप से होगा इलाज

0

लाइफस्टाइल डेस्क, अमर उजाला, Updated Mon, 15 Apr 2019 12:53 PM IST

Related Posts

ऐसे बहुत से लोग हैं जो अपनी आंखों की रोशनी को हल्के में लेते हैं। उन्हें लगता है हम सही से पढ़ रहे हैं, लिख रहे हैं, ड्राइव कर रहे हैं, तो इसका मतलब हमारी आंखे बिल्कुल ठीक है, लेकिन जरूरी नहीं ऐसा हो। हमारे आस-पास बहुत सारे लोग हैं, जिन्हें सिर्फ देखने के लिए भी काफी मशक्कत करनी पड़ती है। दुनियाभर में 285 मिलियन से ज्यादा लोग हैं जिनकी आंखें कमजोर हैं। फ्रेड होलोज फाउंडेशन के मुताबिक, दुनियाभर में लगभग 32.4 मिलियन लोग आंखों से देख नहीं सकते हैं। इनमें  90% लोग विकासशील देश से हैं और इनमें आधे से ज्यादा लोग मोतियाबिंद के कारण आंखों की रोशनी गंवा बैठे हैं।

Loading...
Comments
Loading...