The news is by your side.
Loading...

विश्व कप खेलने कोलंबिया जा रहे तीरंदाजों को एयरपोर्ट से लौटाया

0

हेमंत रस्तोगी, नई दिल्ली
Updated Sun, 21 Apr 2019 12:09 AM IST

Related Posts

ख़बर सुनें

जून माह में होने वाली ओलंपिक क्वालिफाइंग विश्व चैंपियनशिप तैयारियों को उस समय जोरदार झटका लगा जब विश्व कप खेलने जा रहे भारतीय तीरंदाजों को शनिवार सुबह एयरपोर्ट से वापस लौटा दिया गया। 22 सदस्यीय दल को विश्व कप में खेलने के लिए मैडलिन (कोलंबिया ) खेलने के लिए जाना था लेकिन उन्हें एमस्टर्डम जाने वाली फ्लाइट पर नहीं चढ़ने दिया गया।

एयरलाइंस की ओर से कहा गया कि उनकी कनेक्टिंग फ्लाइट नहीं उपलब्ध कराई जा सकती है जिसके चलते उन्हें हवाई यात्रा नहीं करने दिया जा सकता है। इसके बाद तीरंदाज एयरपोर्ट से वापस लौट आए। भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) की ओर से तीरंदाजों को दूसरी फ्लाइट से कोलंबिया भिजवाने की कोशिशें की गईं जो नाकाम साबित हो गईं।

दो जत्थों में होना था रवाना
टीम को दो जत्थों में 20 और 21 अप्रैल को जाना था लेकिन जब एशियन गेम्स मेडलिस्ट तरुणदीप राय, अतुल वर्मा और राजवीर कौर समेत सात तीरंदाज और सपोर्ट स्टाफ शनिवार को एयरपोर्ट पहुंचा तो कहा गया कि पाकिस्तान के ऊपर से फ्लाइट ले जाने की पाबंदी है। ऐसे में एम्सटर्डम पहुंचने में 80 मिनट का विलंब होगा और ऐसे में बगोटा के लिए उनकी कनेक्टिंग फ्लाइट छूट जाएगी। साथ ही बगोटा से मैडलिन की फ्लाइट भी नहीं मिल पाएगी।

ऐसे में उन्हें नहीं ले जाया जा सकता। एयरलाइंस ने यह भी साफ कर दिया कि अगले जाने वाले 15 सदस्यीय दल को भी नहीं ले जाया जा सकता जिसमें दीपिका कुमारी सहित अन्य स्टार तीरंदाज शामिल हैं। अब भारतीय तीरंदाजों के 22 अप्रैल से शुरू हो रहे विश्व कप में भाग लेने के लिए सभी अवसर खत्म हो गए। साई ने भी अपनी लाचारी दिखा दी है कि जेट एयरवेज को आए संकट के चलते आपातकालीन स्थिति में फ्लाइट बुक नहीं हो पा रही है। 

देरी से मिली मंजूरी का भुगता खामियाजा 
दरअसल खेल मंत्रालय की ओर से विश्व कप के लिए तीरंदाजों की टीम को मंजूरी सोमवार को दी गई जिसके चलते तीरंदाजों की फ्लाइट मनमाफिक बुक नहीं हो सकी। यूरोप और अमेरिका से होकर जाने वाली फ्लाइट के लिए ट्रांसिस्ट वीजा की जरूरत थी जो इतने कम समय में नहीं हो सकता था। गुरुवार को एम्स्टर्डम से होकर बगोटा जाने वाली फ्लाइट का टिकट बुक किया गया।

22 : अप्रैल से कोलंबिया में होना है तीरंदाजी विश्व कप का आयोजन 

जून माह में होने वाली ओलंपिक क्वालिफाइंग विश्व चैंपियनशिप तैयारियों को उस समय जोरदार झटका लगा जब विश्व कप खेलने जा रहे भारतीय तीरंदाजों को शनिवार सुबह एयरपोर्ट से वापस लौटा दिया गया। 22 सदस्यीय दल को विश्व कप में खेलने के लिए मैडलिन (कोलंबिया ) खेलने के लिए जाना था लेकिन उन्हें एमस्टर्डम जाने वाली फ्लाइट पर नहीं चढ़ने दिया गया।

एयरलाइंस की ओर से कहा गया कि उनकी कनेक्टिंग फ्लाइट नहीं उपलब्ध कराई जा सकती है जिसके चलते उन्हें हवाई यात्रा नहीं करने दिया जा सकता है। इसके बाद तीरंदाज एयरपोर्ट से वापस लौट आए। भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) की ओर से तीरंदाजों को दूसरी फ्लाइट से कोलंबिया भिजवाने की कोशिशें की गईं जो नाकाम साबित हो गईं।

दो जत्थों में होना था रवाना
टीम को दो जत्थों में 20 और 21 अप्रैल को जाना था लेकिन जब एशियन गेम्स मेडलिस्ट तरुणदीप राय, अतुल वर्मा और राजवीर कौर समेत सात तीरंदाज और सपोर्ट स्टाफ शनिवार को एयरपोर्ट पहुंचा तो कहा गया कि पाकिस्तान के ऊपर से फ्लाइट ले जाने की पाबंदी है। ऐसे में एम्सटर्डम पहुंचने में 80 मिनट का विलंब होगा और ऐसे में बगोटा के लिए उनकी कनेक्टिंग फ्लाइट छूट जाएगी। साथ ही बगोटा से मैडलिन की फ्लाइट भी नहीं मिल पाएगी।

ऐसे में उन्हें नहीं ले जाया जा सकता। एयरलाइंस ने यह भी साफ कर दिया कि अगले जाने वाले 15 सदस्यीय दल को भी नहीं ले जाया जा सकता जिसमें दीपिका कुमारी सहित अन्य स्टार तीरंदाज शामिल हैं। अब भारतीय तीरंदाजों के 22 अप्रैल से शुरू हो रहे विश्व कप में भाग लेने के लिए सभी अवसर खत्म हो गए। साई ने भी अपनी लाचारी दिखा दी है कि जेट एयरवेज को आए संकट के चलते आपातकालीन स्थिति में फ्लाइट बुक नहीं हो पा रही है। 

देरी से मिली मंजूरी का भुगता खामियाजा 
दरअसल खेल मंत्रालय की ओर से विश्व कप के लिए तीरंदाजों की टीम को मंजूरी सोमवार को दी गई जिसके चलते तीरंदाजों की फ्लाइट मनमाफिक बुक नहीं हो सकी। यूरोप और अमेरिका से होकर जाने वाली फ्लाइट के लिए ट्रांसिस्ट वीजा की जरूरत थी जो इतने कम समय में नहीं हो सकता था। गुरुवार को एम्स्टर्डम से होकर बगोटा जाने वाली फ्लाइट का टिकट बुक किया गया।

22 : अप्रैल से कोलंबिया में होना है तीरंदाजी विश्व कप का आयोजन 

Loading...
Comments
Loading...