The news is by your side.
Loading...

नकदी संकट बढ़ने पर इंडिया रेटिंग्स की भविष्यवाणी, अब ऐसे होगी दिक्कत..

0

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Tue, 21 May 2019 01:39 AM IST

सांकेतिक तस्वीर
– फोटो : सोशल मीडिया

Related Posts

ख़बर सुनें

नकदी तरलता में कमी के चलते हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों (एचएफसी) ने कर्ज बांटने में सुस्ती दिखाई है। देश की छह बड़ी एचएफसी ने सितंबर 2018 को समाप्त तिमाही में औसतन 25 हजार करोड़ रुपये लोन प्रतिमाह बांटा। इसमें से इन कंपनियों का प्रतिमाह औसत घटकर 13,500 करोड़ रुपये आ गया है। 

इंडिया रेटिंग्स का कहना है कि एचएफसी के लोन बांटने में आई इस सुस्ती का असर खुदरा कर्जदारों के साथ प्रॉपर्टी डेवलपर्स पर भी होगा। अगर यह तंगी जारी रहती है तो निर्माणाधीन प्रोजेक्ट के लिए सामग्री जुटाने में दिक्कत आएगी और रियल एस्टेट क्षेत्र भी संकट में घिर जाएगा।

नकदी तरलता में कमी के चलते हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों (एचएफसी) ने कर्ज बांटने में सुस्ती दिखाई है। देश की छह बड़ी एचएफसी ने सितंबर 2018 को समाप्त तिमाही में औसतन 25 हजार करोड़ रुपये लोन प्रतिमाह बांटा। इसमें से इन कंपनियों का प्रतिमाह औसत घटकर 13,500 करोड़ रुपये आ गया है। 

इंडिया रेटिंग्स का कहना है कि एचएफसी के लोन बांटने में आई इस सुस्ती का असर खुदरा कर्जदारों के साथ प्रॉपर्टी डेवलपर्स पर भी होगा। अगर यह तंगी जारी रहती है तो निर्माणाधीन प्रोजेक्ट के लिए सामग्री जुटाने में दिक्कत आएगी और रियल एस्टेट क्षेत्र भी संकट में घिर जाएगा।

Loading...
Comments
Loading...