The news is by your side.
Loading...

जेएलआर से टाटा मोटर्स को हुआ बड़ा घाटा, चौथी तिमाही में केवल 1109 करोड़ का शुद्ध लाभ

0

ख़बर सुनें

Related Posts

पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में टाटा मोटर्स को बड़ा घाटा हुआ। कंपनी का शुद्ध लाभ 49 फीसदी घटकर केवल 1109 करोड़ रुपये रह गया। इस घाटे में मुख्य तौर पर जेगुआर लैंड रोवर के कारोबार से जुड़े कुछ विशेष प्रावधान रहे। 

पिछले वर्ष हुआ था 2175 करोड़ का लाभ

पिछले वित्त वर्ष 2017-18 की इसी तिमाही में कंपनी ने 2,175.16 करोड़ रुपये का एकीकृत शुद्ध लाभ कमाया था। कंपनी की कुल एकीकृत आय 87,285.64 करोड़ रुपये रही जो एक साल पहले 2017-18 की चौथी तिमाही में 91,643.44 करोड़ रुपये थी। इस तरह कंपनी की आय 4.75 प्रतिशत घटी। तिमाही के दौरान जेएलआर ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति कार्यक्रम चलाय जिसके लिए 1,367.22 करोड़ रुपये के खर्च का विशेष प्रावधान करना पड़ा।

शुद्ध घाटा 28724 करोड़ रुपये

पूरे वित्त वर्ष 2018-19 में कंपनी को 28,724.20 करोड़ रुपये का एकीकृत शुद्ध घाटा हुआ जबकि इससे पूर्व वित्त वर्ष में 9,091.36 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था। इसमें मुख्य रूप से 27,837.91 करोड़ रुपये के निवेश के नुकसान का बड़ा हाथ है। कंपनी की कुल आय आलोच्य वित्त वर्ष में 3,04,903.71 करोड़ रुपये रही जो इससे पूर्व वित्त वर्ष 2017-18 में 2,96,298.23 करोड़ रुपये थी।

टाटा मोटर्स के मुख्य वित्त अधिकारी पी बी बालाजी ने यहां संवाददाताओं से कहा, ”तीसरी तिमाही में घाटे के बाद चौथी तिमाही में हम फिर मुनाफे में आए हैं। पुनरोद्धार 2.0 ने घरेलू कारोबार की दृष्टि से हमारे लिए बेहतर परिणाम दिया है।” एकल आधार पर 2018-19 में कंपनी का शुद्ध लाभ 2,398.93 करोड़ रुपये रहा जबकि इससे पूर्व वित्त वर्ष में उसे 946.92 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था।

पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में टाटा मोटर्स को बड़ा घाटा हुआ। कंपनी का शुद्ध लाभ 49 फीसदी घटकर केवल 1109 करोड़ रुपये रह गया। इस घाटे में मुख्य तौर पर जेगुआर लैंड रोवर के कारोबार से जुड़े कुछ विशेष प्रावधान रहे। 

पिछले वर्ष हुआ था 2175 करोड़ का लाभ

पिछले वित्त वर्ष 2017-18 की इसी तिमाही में कंपनी ने 2,175.16 करोड़ रुपये का एकीकृत शुद्ध लाभ कमाया था। कंपनी की कुल एकीकृत आय 87,285.64 करोड़ रुपये रही जो एक साल पहले 2017-18 की चौथी तिमाही में 91,643.44 करोड़ रुपये थी। इस तरह कंपनी की आय 4.75 प्रतिशत घटी। तिमाही के दौरान जेएलआर ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति कार्यक्रम चलाय जिसके लिए 1,367.22 करोड़ रुपये के खर्च का विशेष प्रावधान करना पड़ा।

शुद्ध घाटा 28724 करोड़ रुपये

पूरे वित्त वर्ष 2018-19 में कंपनी को 28,724.20 करोड़ रुपये का एकीकृत शुद्ध घाटा हुआ जबकि इससे पूर्व वित्त वर्ष में 9,091.36 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था। इसमें मुख्य रूप से 27,837.91 करोड़ रुपये के निवेश के नुकसान का बड़ा हाथ है। कंपनी की कुल आय आलोच्य वित्त वर्ष में 3,04,903.71 करोड़ रुपये रही जो इससे पूर्व वित्त वर्ष 2017-18 में 2,96,298.23 करोड़ रुपये थी।

टाटा मोटर्स के मुख्य वित्त अधिकारी पी बी बालाजी ने यहां संवाददाताओं से कहा, ”तीसरी तिमाही में घाटे के बाद चौथी तिमाही में हम फिर मुनाफे में आए हैं। पुनरोद्धार 2.0 ने घरेलू कारोबार की दृष्टि से हमारे लिए बेहतर परिणाम दिया है।” एकल आधार पर 2018-19 में कंपनी का शुद्ध लाभ 2,398.93 करोड़ रुपये रहा जबकि इससे पूर्व वित्त वर्ष में उसे 946.92 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था।

Loading...
Comments
Loading...